Saturday, December 3, 2022
Google search engine
HomeEconomic frontFinanceIndia's inflation : तीन साल में भारत की मुद्रास्फीति दर में...

India’s inflation : तीन साल में भारत की मुद्रास्फीति दर में क्या क्या बदलाव हुए है.

तीन साल में  भारत की मुद्रास्फीति दर में क्या क्या बदलाव हुए है.  कैसे बढ़ी  महंगाई. देश के भूखे पेट पर खड़ी अर्थव्यवस्था. आप यहाँ दिसंबर 2018 से जून 2022 तक देश की मुद्रास्फीति की सूची से समझ सकते है कि देश में महंगाई कैसे प्रभावित होती है, मुद्रास्फीति को  CPI और WPI दोनों सूचकांकों में मापा जाता है ताकि आप समय के साथ कीमतों में होते बदलाव को समझा जा सके.

भारत में मुद्रास्फीति को मापने के लिए दो सूचकांकों का उपयोग किया जाता है – उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (CPI) और थोक मूल्य सूचकांक (WPI)। ये दोनों वस्तुओं और सेवाओं की कीमतों में उतर चढ़ाव से होने वाले मूल्य परिवर्तन को देखने के  लिए अलग-अलग तरीकों से  मासिक आधार पर मुद्रास्फीति को मापते हैं. यह अध्ययन सरकार और भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) को बाजार में मूल्य परिवर्तन को समझने में मदद करता है और इस प्रकार मुद्रास्फीति पर नजर राखी जाती है. हालाँकि सरकार और RBI का दायित्व बनता है कि वो मुद्रास्फीति को कण्ट्रोल करे, लेकिन क्या ऐसा होता है ? यह बस एक सवाल है जिसका उत्तर पाना मुश्किल है.

क्या है CPI  ?

CPI सूचकांक अर्थव्यवस्था में 260 वस्तुओं में वस्तुओं और सेवाओं की खुदरा मुद्रास्फीति का एनालिसिस करता है. सीपीआई-आधारित खुदरा मुद्रास्फीति उन कीमतों में बदलाव को देखती है जिन पर लोग उत्पाद खरीदते हैं. इसके लिए आंकड़े Ministry of Statistics and  Program Implementation and the Ministry of Labour के द्वारा अलग से एकत्र किए जाते हैं.

क्या है WPI  ?

WPI, यानि थोक मूल्य के अनुसार , 697 वस्तुओं में केवल वस्तुओं की मुद्रास्फीति का विश्लेषण करता है और  थोक मुद्रास्फीति कीमतों में बदलाव पर नजर रखता है, जिस पर उपभोक्ता थोक मूल्य पर अलग अलग माध्यमों से थोक में सामान खरीदते हैं. 

Inflation Rates Of India In 2022

Indices       Jun       May           Apr        Mar          Feb            Jan

CPI           7.01%      7.04%          7.79%       6.95%  6.07%    6.01%

WPI           15.18%     15.88% 15.08%      14.55%  13.11%   12.96%    

Inflation Rates Of India In 2021 

Indices        Dec          Nov           Oct Sep         Aug         Jul         Jun          May  Apr         Mar         Feb          Jan

CPI                5.59% 4.91%  4.48% 4.35% 5.30% 5.59% 6.26%  6.30% 4.23% 5.52% 5.03% 4.06%

WPI               14.27% 14.23% 12.54% 10.66% 11.39% 11.16% 12.07% 12.94% 10.49% 7.39% 4.83% 2.03%

Inflation Rates Of India In 2020

Indices          Dec           Nov     Oct     Sep     Aug     Jul     Jun     May   Apr    Mar          Feb          Jan

CPI                  4.59%   6.93%     7.61%     7.27%     6.69%     6.73%    6.26%      *             *         5.84% 6.58% 7.59%

WPI                  1.95%   1.55%     1.31%     1.32%     0.16%    -0.58%    1.81%    -3.37%   -1.57% 1.00% 2.26% 3.01%

RBI की मुद्रास्फीति को नियंत्रित करने की कोशिश ?

वस्तुओं और सेवाओं की मांग और आपूर्ति को नियंत्रित करने और आपूर्ति करने के लिए RBI रेपो दर  को बढ़ाकर मुद्रास्फीति को नियंत्रित करने की कोशिश करता है. इसके साथ ही रेपो दरों में वृद्धि बैंकों को कर्ज और जमा दरों पर ब्याज दरों में वृद्धि करने के लिए मजबूर करती है.  भारत एक आर्थिक संकट से गुजर रहा है. पेट्रोल डीजल के मूल्यों में अत्यधिक उछाल आम जनता को प्रताड़ित कर रहे हैं, लेकिन इनके सहारे ही मुद्रास्फीति को कंट्रोल करने के लिए जनमानस विरोधी प्रयोग किये जा रहे है.  सरकार अनेको प्रकार से अप्रत्यक्ष रेवेन्यू एकत्र करने कि जुगत में लगी हैं जिसका सारा बोझ जनता कि जेब और पेट पर पढ़ रहा है. देश के भूखे पेट पर खड़े होकर अर्थव्यवस्था को संभालने के प्रयोग कहा तक और किसके पक्ष में सफल होते है यह तो समय ही बता पाएगा. 

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments